हाथ हमारे

हाथ हमारे Arthur_William_Devis_-_Indian_Potter_-_B1975.4.1140_-_Yale_Center_for_British_Art- Wikimedia Commons

हाथ हमारे

वे हमारे हाथ हैं
उन्होंने उठाया है बोझा
उन्होंने कलम और तलवार चलाई है
उन्होंने हथौड़े से कूटा है लोहा
तो पेंसिल भी छीली है
उन्होंने काटे हैं पहाड़
तो तराशे हैं हीरे-मोती भी।
उन्होंने पोंछे हैं आंसू
तो सिर भी कलम किए हैं
किसी को सिर पर बैठाया है
तो किसी को उठाकर फेंका भी है
वे हमारे हाथ हैं।
वे करते हैं असंख्य काम
वे बर्तन मांजते हैं
खाना पकाते हैं
मोमबत्ती जलाते हैं
कली को फूल बनाते हैं।
वे करते हैं उनके भी काम
जिनके हाथ नहीं है
हाथ करते है रक्षा
बहती गंगा में धोए जाते है हाथ।
हाथ पर तोते पाले जाते हैं
हाथ पर हाथ धरकर बैठना पड़ता है
हाथ पकड़ लिया जाता है
हाथ पकड़े की लाज रखी जाती है।
हाथ भर का कलेजा होता है
तो हाथ भी होती है जबान किसी-किसी की
हम हाथ मलते रह जाते हैं
कि हाथों के तोते उड़ जाते हैं
हाथ मजबूत किए जाते हैं
हाथ में नकेल होती है
हाथ में बागडोर होती है
कोई-कोई किसी के पीछे
हाथ धोकर पड़ जाता है।
बहती गंगा में सब हाथ धो लेते हैं।
हाथ गले में डाले जाते हैं।
आँखों से लगाए जाते हैं
चूमे जाते हैं।
हाथों हाथ लिया जाता है किसी को
किसी का हाथ आजमाया जाता है
कोई हाथ आजमाता है
तो कोई हाथ आ जाता है
किसी का हाथ उठ जाता है
तो किसी का हाथ उतर जाता है।
हाथ खुल जाता है
तो हाथ ओछा पड़ जाता है
हाथ कट जाते हैं
तो हाथ जुड़ भी जाते हैं।
किसी के हाथ का काम है
तो किसी के हाथ में यह नहीं
हाथ में हाथ नहीं रहता है।
मेरे हाथ का खिलौना है वह
हाथ का सच्चा होता है जो
वह हाथ कानों पर रख लेता है।
रंगे हाथ पकड़ा जाता है।
पैसा तो हाथ का मैल है
मेरे बाएं हाथ का खेल है
हाथ की सफाई दिखाओ तो मजा आए
हाथ आजमाओ
हाथ को हाथ नहीं सूझता
हाथ को हाथ की खबर नहीं होती
कोई किसी के हाथ के नीचे काम करता है
हाथ-हाथ को पहचानता है।
हाथ खुजलाता है तो हाथ खर्च मिलता है
हाथ खींच लेना पड़ता है महंगाई में
हाथ खुजलाते रहते हैं बच्चे
उनका हाथ खाली हो जाता है।
किसी मशीन पर कारीगर का
हाथ जम जाता है
तो कोई किसी के हत्थे चढ़ जाता है।
कोई हाथ जोड़ता है
तो कोई हाथ मोड़ लेता है
किसी का हाथ रहा जाता है
तो किसी का हाथ रोका जाता है।
किसी-किसी के हाथ पर
सनीचर होता है
तो हाथ हाथ में नहीं रहता।
किसी के हाथ में पैसा नहीं रहता
एक हाथ में आता है
दूसरे से चला जाता है
हाथ लगते ही कुम्हला जाते हैं कुछ फूल
कुछ पौधे मुरझा जाते है
हाथ लगते ही मैले हो जाते हैं बच्चे
कोई किसी के हाथों में खेलने लगता है
तो कोई हाथोंहाथ बिक जाता है।


 Image:  Arthur William Devis – Indian Potter – B1975.4.1140
Image Source: Wikimedia Commons
Artist:Yale Center for British Art
Image in Public Domain