घिरे आज नव घन

घिरे आज नव घन

घिरे आज नव घन
प्रकृति के खुले ये घने केश-बंधन!

मसृण-स्निग्ध-श्यामल,
भरे मोह केंचुल,
रही झूम खोले दिशा व्यालिनी फण!

उठे चीख चातक,
स्मृति दंश घातक,
कहाँ वह तृषा-विष-शमन, स्नेह के कण?

प्रखर ग्रीष्म आतप
हुए रुक्ष पादप
लिए शुष्क मर्मर, कँपे प्राण के स्वन!

उड़े पंक्ति में बक,
खिले व्योम-कुरबक,
गगन नेत्र के नेहमय अश्रु अंजन!

तमावृत दिशाएँ,
झुके मेह आए,
धरा व्योम के ये अवश बाहु-बंधन!

अमृत बूँद झर-झर
जगत स्नायु में भर,
रहीं हेर जन-पद-बधू स्निग्ध-लोचन!


Image: Morning on the Seine in the Rain
Image Source: WikiArt
Artist: Claude Monet
Image in Public Domain


Notice: Undefined variable: value in /var/www/html/nayidhara.in/wp-content/themes/oceanwp-child/functions.php on line 154
प्रकाशवती नारायण द्वारा भी