वो दिल मुझसे लगाना चाहता है

वो दिल मुझसे लगाना चाहता है

वो दिल मुझसे लगाना चाहता है
वो अब अपना बनाना चाहता है

नजर भर देख कर जीने लगा वो
नजर में अब बसाना चाहता है

मेरी वो माँग हाथों से सजाकर
मुझे दुल्हन बनाना चाहता है

लुटाकर जिंदगी अपनी वो मुझ पर
मेरे नखरे उठाना चाहता है

वो अपने बाजुओं में भर के मुझ पे
मुहब्बत को लुटाना चाहता है

दे कर मुझको जमाने भर की खुशियाँ
वो सारे गम उठाना चाहता है

कहानी जो अधूरी रह गई थी
वही ‘अंजु’ सुनाना चाहता है।


Image : Liebesfrühling Ii (doppelbildnis Maschka Und Otto Mueller)
Image Source : WikiArt
Artist : Otto Mueller
Image in Public Domain


Notice: Undefined variable: value in /var/www/html/nayidhara.in/wp-content/themes/oceanwp-child/functions.php on line 154
अजूंदास 'गीताजंलि' द्वारा भी