झूठ जब लाजवाब होता है

झूठ जब लाजवाब होता है

झूठ जब लाजवाब होता है
सच का चेहरा खराब होता है

फूल के बीच फूल-सा बनना
कितना मुश्किल जनाब होता है

हर्फ-दर-हर्फ वो पढ़ा लेगा
वक्त ऐसी किताब होता है

खर्च माँ-बाप पर हुए कितने
भाइयों में हिसाब होता है

उनके हिस्से में कोठियाँ होतीं
मेरे हिस्से में ख्वाब होता है


Image : Portrait of Suzanne Hoschede with Sunflowers
Image Source : WikiArt
Artist : Claude Monet
Image in Public Domain


Notice: Undefined variable: value in /var/www/html/nayidhara.in/wp-content/themes/oceanwp-child/functions.php on line 154
अनिरुद्ध सिन्हा द्वारा भी