जागती आँखों में कुछ सपने

जागती आँखों में कुछ सपने

जागती आँखों में कुछ सपने लिए आ जाइए
हम जलाएँगे उम्मीदों के दीये, आ जाइए

सीख लीजे मुश्किलों में खिलखिलाने का हुनर
लब पे गम की दास्ताँ मत लाइए, आ जाइए

गड्डियों में ताश की हर दर्दो-गम को फेंटकर
ढूँढ़ लेंगे सर्किलों के जाविये, आ जाइए

मॉनसूनी इश्क के बादल लगे हैं झूमने
ताल पर हर बूँद की लहराइए, आ जाइए

यार बदले आपने, हमने भी बदली कार थी
इस पहेली को कभी सुलझाइए, आ जाइए

दास्ताँ लंबी है, पन्ने कम हैं, उस पर शर्त ये
छोड़ने दोनों तरफ हैं हाशिए, आ जाइए

आपको दूँ मशविरा, ये हक नहीं मुझको मगर
कत्ल कर रिश्तों का मत इतराइए, आ जाइए

अब मुकम्मल हो ही जाएगी अधूरी ये गजल
मिल गए हैं खूबसूरत काफिए, आ जाइए

पत्थरों पर खिल उठेंगे प्रेम के कितने सुमन
बस जरा ‘परिमल’ की गजलें गाइए, आ जाइए।


Image : Madame Claude Anet
Image Source : WikiArt
Artist :Pierre Bonnard
Image in Public Domain


Notice: Undefined variable: value in /var/www/html/nayidhara.in/wp-content/themes/oceanwp-child/functions.php on line 154
समीर परिमल द्वारा भी