एक कहानी

एक कहानी

सीमा तोड़ नदी उमड़ी है
तटबंधों पर बल्ले-बल्ले!

थोड़ी बरसात हुई जाने
फिर भी भारी अफड़ा-तफड़ी
मुखिया जी का कुनबा चौकस
बता रहे सब लफड़ा-लफड़ी

शोर मचा है गाँव नगर में
चौकन्ने हैं गली-मोहल्ले!

वायुयान से सुखद नजारे
देखने रजधानी आई है
आए हैं चमचे-बमचे
कहने एक कहानी आई है

भौचक जनता शोर मचाते
नेता से ज्यादा दुमछल्ले!

थोड़ी राहत शोर अधिक है
अधिक मची है आपा-धापी
मुट्ठी भर दाने पर चलती
पुरजोर यहाँ चाँपा-चाँपी
कहीं डूबते बाग-बगीचे
कहीं फूटते कोमल कल्ले!


Image : Fisherman
Image Source : WikiArt
Artist : Vasily Perov
Image in Public Domain


Notice: Undefined variable: value in /var/www/html/nayidhara.in/wp-content/themes/oceanwp-child/functions.php on line 154
संजय पंकज द्वारा भी