एक दुनिया बसाएँ

एक दुनिया बसाएँ

चलो!
एक नई दुनिया बसाएँ
जहाँ न हो आतंक का भय
न हो किसी तरह का डर
नहीं मिले जहाँ प्रदूषण का जहर!

जहाँ मिले भगवान बुद्ध की ज्ञान-शांति
भगवान महावीर की अहिंसा
गुरुनानक का भाई-चारा
गुरुगोविंद सिंह का शौर्य!

सिर्फ, एक-दूसरे के सुख-दुःख में
हर किसी का उठे हाथ।
एक नयी दुनिया ऐसी बसाएँ
न हो कोई राजा, न कोई रंक
हर किसी का जीवन हो अनमोल
जहाँ हर कोई हो निष्कलंक!
बस इतनी है चाहत
जीवन का गीत गाएँ
जीवन का संगीत बजाएँ
सुर-ताल का मिलन कर
जीवन को आनंदमय बनाएँ!


Image : Buddha Investigator
Image Source : WikiArt
Artist : Nicholas Roerich
Image in Public Domain


Notice: Undefined variable: value in /var/www/html/nayidhara.in/wp-content/themes/oceanwp-child/functions.php on line 154
सुनील सौरभ द्वारा भी