रंगरेज

रंगरेज

नहीं रंगी गई दीवाल के पास एक पेड़ है
जिसने उसकी पत्तियों को हरा रंगा है

रंग सकता था दीवाल को भी
हरा, सफेद, काला या कोई भी रंग जो उसके पास होता
रंग नहीं होता
तो रंग सकता था
सड़क से समेटकर
धूल का भूरा रंग
या आसमान से लाकर उसका नीला रंग

कुछ तो पहन लेता
दीवाल से सटकर नंगा लेटा भिखारी
बिना रंगी दीवाल के रंग को
‘भूख’ क्यों कहता
रंग देता दीवाल को, उधड़ी चमड़ी का स्लेटी रंग
नंगा भरपेट खाकर चैन की नींद सोता
वह मारा गया या मरा हुआ भिखारी।


Image : Poor old Greek Anatolia
Image Source : WikiArt
Artist : Arshak Fetvadjian
Image in Public Domain


Notice: Undefined variable: value in /var/www/html/nayidhara.in/wp-content/themes/oceanwp-child/functions.php on line 154
प्रकाश साहू द्वारा भी