प्यार

प्यार

प्यार एक ऐसा एहसास
जगाती जो जीवन का प्यास
मन मुदित तन सुरभित
टूट जाती सारी वर्जना
है प्रबल यह भाव इतना
मन करता सिर्फ कामना
उम्र सीमा देह सीमा
सबसे जाती पार यह
इसके दम से है ये धरती
इसके दम से आसमाँ।

प्रेम की सीमा न कोई
प्रेम की नहीं जात है
कहने और सुनने से ऊपर
सिर्फ एक तलाश है
इसकी चाहत हर किसी को
यह नेह की बरसात है।

जब किसी के दिल में उठता
आता सब पर प्यार है
मौन की है भाषा इसकी
नैनों का संदेश है
मिट जाती मीलों की दूरी
रहता हरदम कोई पास है
डूबो देता यादों का समंदर
भावना को लग जाते हैं पर
मोरपंखी रंग इसके
इंद्रधनुषी कामना
खट्टा मीठा स्वाद इसका
ख्यालों का यह कारवाँ
जग है सुंदर, सब है सुंदर
फूल, कलियाँ, चँद्रमा
इसका नहीं तन है कोई
इसकी बस है आत्मा
जीना, मरना एक जैसा
हर कहीं परमात्मा।


Image : The water fan
Image Source : WikiArt
Artist : Winslow Homer
Image in Public Domain


Notice: Undefined variable: value in /var/www/html/nayidhara.in/wp-content/themes/oceanwp-child/functions.php on line 154
मुकुल अमलास द्वारा भी