मस्जिद और मंदिर

Souvenir From Turkey From Asia - Children Playing With A Turtle by Alexandre-Gabriel Decamps- WikiArt (1)

मस्जिद और मंदिर

पंछियों के पंखों पर लिखी
आज़ादी की सबक को पढ़ना सीखेंगे
घड़ी की सुइयों में
छुपाकर रखे समय को
ढूँढ़ने की कोशिश करेंगे।

छायाओं में छुपी सच्चाइयों को
परखने का तरीका समझेंगे
इंसान के चेहरे पर है जो मौन समुद्र
उसमें डूबकर बहार लेंगे
सच्चाई के सीपों को।

एक दूजे पर
फकीर को मंदिर और
मंदिर को इंसान कैसे बनाना है
यह जान लेंगे कुम्हार की चाकी से
तेरे मेरे खून के कतरों की कसम
एक साथ सोए बिस्तरों की कसम
जवानी की खुशबुओं की कसम
दोनों के एक होने के पलों की कसम

प्यारी! ओ मेरी प्यारी!!
अपने बदन से बाहर आए
बच्चों की कसम
शूल भाले खंजरों से भरी
सभ्यता के तहस-नहस होने की कसम
एक पल के लिए जी लें इंसानों की तरह
अगले पल मर भी जाएँ तो
कोई बात नहीं

‘प्यार ही तो है
इस संसार के लिए जरूरी साधन’
यह घोषणा करने के लिए
मस्जिद और मंदिर की तरह नहीं
इंसानों की तरह
करते ही रहेंगे कोशिश।


Image: Souvenir From Turkey From Asia – Children Playing With A Turtle
Image Source: WikiArt
Artist: Alexandre-Gabriel Decamps
Image in Public Domain


Notice: Undefined variable: value in /var/www/html/nayidhara.in/wp-content/themes/oceanwp-child/functions.php on line 154
डॉ याकूब द्वारा भी