अर्थ

अर्थ

उसने शर्म से
अपने दोनों पंजों में
चेहरा ढँक लिया
उसे लगा कि
एक अच्छा ख़ासा पत्थर लेकर
अपने सिर को चूर-चूर कर दे
किंतु फिर उसने
तुरंत…
चेहरे पर से पंजे हटा लिए
और घबरा कर
अगल-बगल देखा
किसी को न देखता पाकर
उसे अच्छा लगा
प्रयत्नपूर्वक उसने अपने मन को
स्थिर किया
निश्चित किया कि
सारी परिस्थिति पर
शांतिपूर्वक विचार करेगा।


Image :Sad forebodings of what is to come
Image Source : WikiArt
Artist : Francisco Goya
Image in Public Domain


Notice: Undefined variable: value in /var/www/html/nayidhara.in/wp-content/themes/oceanwp-child/functions.php on line 154
मनाजिर आशिक हरगानवी द्वारा भी