दुख में तुम्हारी हँसी

दुख में तुम्हारी हँसी

जब-जब मेरी फटेहाली
फटे जूते में ढुकी कील-सी
पाँव में चुभती थी

तब-तब
मोतियों से चमकते
तुम्हारे दाँतों की दुधिया-हँसी
मुझे अँधेरे में
आगे का रास्ता दिखाती थी।


Image : L_orientale
Image Source : WikiArt
Artist : Marie Bashkirtseff
Image in Public Domain


Notice: Undefined variable: value in /var/www/html/nayidhara.in/wp-content/themes/oceanwp-child/functions.php on line 154
अशोक सिंह द्वारा भी