सांध्य गीत

सांध्य गीत

टूट गई धूप की नसैनी
तुलसी के तले दिया धर कर
एक थकन सो–गई पसर कर

दीपक की ज्योति लगी छैनी
आँगन में
धूप-गंध बोकर बिखरी
चौपाइयाँ सँजोकर

मुँडरी से उड़ी, कनक-डैनी।


Image : Moonlit Night. A Village
Image Source : WikiArt
Artist : Isaac Levitan
Image in Public Domain


Notice: Undefined variable: value in /var/www/html/nayidhara.in/wp-content/themes/oceanwp-child/functions.php on line 154
महेश उपाध्याय द्वारा भी