लुटा कर हर ख़ुशी अपनी तू जिसका साथ पाए है

लुटा कर हर ख़ुशी अपनी तू जिसका साथ पाए है

लुटा कर हर ख़ुशी अपनी तू जिसका साथ पाए है
कहाँ दौलत ये हरजाई किसी के साथ जाए है

दहेजों के लिए जब लौटकर बारात जाए है
तो सारे शहर में इक बाप की औक़ात जाए है

ज़रा अपनी तो सोचो ऐ बड़ी औकात वालो तुम
मेरा क्या ख़ाके-पा1 हूँ कब मेरी औकात जाए है

यहाँ ख़ूबी-ख़राबी की कसौटी कुछ अलग ही है
यहाँ तो आदमी से पहले उसकी ‘ज़ात’ जाए है

मुझे तुम देवता कहकर न इतना सर चढ़ाओ भी
ख़ुदा बनने में मेरी बंदगी की बात जाए है

ग़मो का खेल है दुनिया खुशी तो ‘विप्लवी’ लुक-छिप
किसी का हाथ छोड़े है किसी के साथ जाए है


1. पाँव की धूल


Original Image: Interior Woman at the Window
Image Source: WikiArt
Artist: Gustave Caillebotte
Image in Public Domain
This is a Modified version of the Original Artwork


Notice: Undefined variable: value in /var/www/html/nayidhara.in/wp-content/themes/oceanwp-child/functions.php on line 154
बी.आर. विप्लवी द्वारा भी