शोषितों की आवाज सिद्धलिंगय्या

कर्नाटक के दलित साहित्य के प्रमुख हस्ताक्षर कवि, नाटककार, निबंधकार ही नहीं, डॉ. सिद्धलिंगय्या कर्नाटक विधान परिषद के सदस्य, कन्नड़ प्राधिकार और कन्नड़ पुस्तक प्राधिकार के अध्यक्ष होते हुए भी स्वभाव से कोमल, मृदुभाषी, चिंतनशील व्यक्तित्व के धनी थे।

और जानेशोषितों की आवाज सिद्धलिंगय्या
 मेरी कोरोना डायरी (एक)
Woman at writing desk by Lesser Ury

मेरी कोरोना डायरी (एक)

कोरोना महामारी ने विश्व को हिला डाला है। पूरी दुनिया की अर्थव्यवस्था चौपट हो गयी है। लोग दहशत में हैं और मास्क लगाना ‘न्यू नोर्मल’ बन गया है तो जरूरी इस बीमारी के बचाव के साथ साथ यह जानने की–कि कोरोना हो जाने के बाद इससे बिना अस्पताल में भर्ती हुए आप घर पर भी कैसे ठीक हो सकते हैं। इन दिनों दक्षिण अफ्रीका में कोरोना का भयानक प्रकोप है।

और जानेमेरी कोरोना डायरी (एक)

भारतीय संस्कृति के पुरोधा रामविलास शर्मा

रामविलास शर्मा बहुमुखी प्रतिभा के लेखक थे, जिन्होंने भाषा विज्ञान, इतिहास, संस्कृति, साहित्यालोचन जैसे क्षेत्रों में विपुल लेखन कार्य किया। यह एक सौ से अधिक किताबों के लेखक थे (शायद इसीलिए उनकी रचनावली अभी तक प्रकाशित नहीं हो सकी है) और उनकी प्रत्येक किताब के लिए उन्हें पी-एच.डी. या डी.लिट्. की उपाधि दी जा सकती है। वह 1934 से 2000 तक (66 वर्ष) निरंतर गंभीर लेखन करते रहे तथा उन्होंने अनेक विषयों पर मौलिक चिंतन-लेखन किया जिन पर वाद-विवाद-संवाद लगातार होते रहे हैं।

और जानेभारतीय संस्कृति के पुरोधा रामविलास शर्मा

प्रभु जी, तुम अमृत हम मोची

पटना से करीब चालीस किलोमीटर दूर बिहटा थाना का अमहरा ग्राम स्वाधीनता आंदोलन के समय प्रायः सुर्खियों में रहता था। यह ग्राम सवर्ण बाहुल्य है। राजनीतिक तौर पर यहाँ के लोग समाजवादी विचारधारा से प्रभावित रहे हैं। देश की आबादी के लिए गाँव के प्रमुख लोग सर्वप्रकारेण समर्पित थे जिनमें रामजी सिंह, श्यामनंदन बाबा, रामनाथ शर्मा आदि अग्रगण्य थे।

और जानेप्रभु जी, तुम अमृत हम मोची
 दिल्ली प्रवास के छः दिन
https___commons.wikimedia.org_wiki_File_Aaron_Burden_2016-08-13_(Unsplash_xG8IQMqMITM).jpg--Wikimedia-Commons

दिल्ली प्रवास के छः दिन

डायरी के पन्ने पलटने शुरू किए, तो मेरे सामने दिल्ली-प्रवास (16 से 21 दिसंबर, 2013) के किस्से खुलने लगे। उन किस्सों में ऐसा उलझा, कि जिस मुद्दे पर लिखना चाहता था, वह धरा रह गया। अब सोचता हूँ कि इस बार डायरी के इन्हीं कुछ पन्नों को आपके सामने रखूँ। कई बार ऐसा होता है कि अत्यंत सामान्य-सी दिखने वाली चीजों में भी कुछ खास चीजें दिख जाती हैं।

और जानेदिल्ली प्रवास के छः दिन
 जन सरोकार की कहानियाँ
सरोकार-की-कहानियाँ-A-woman-seated-in-front-of-a-palace,-reading-a-book-and-offered-a-cup--Wikimedia-Commons

जन सरोकार की कहानियाँ

सामाजिक संरचना के बनते-बिगड़ते स्वरूप के लिए जिम्मेदार कारकों तथा स्थितियों-परिस्थितियों की परख और पड़ताल आज के जो भी कथाकार सहज भाव से कर रहे हैं, उनमें शंभु पी. सिंह ने भी अपनी उपस्थिति ‘जनता दरबार’ के जरिए दर्ज की है। जन साधारण के जीवन पर आधारित कथा सृजन की समृद्ध परंपरा को विस्तार देने में शंभु पी. सिंह एक स्पष्ट दृष्टिबोध के साथ नजर आते हैं।

और जानेजन सरोकार की कहानियाँ